आज हमारा घर भोजन हाय, आप साब ओईयेगा!!

आज सुबह मेरा एक नया बंगाली दोस्त मेरे घर आया और बोला –
“आज हमारा घर भोजन हाय, आप साब ओईयेगा”

मैंने कहा – ठिक है…

मैं बीवी को लेकर वहाँ ठिक 11:30 बजे पहुँच गया…

वहाँ 4-5 बंगाली ढोलक तबला बजा रहे थे,
दोपहर 2:30 बजे तक न जाने क्या गा रहे थे,
साला कुछ पता नहीं चला…

फिर वो बंगाली दोस्त खड़ा होकर बोला –
“आज का भोजन समाप्त हुआ,
कोल फिर भोजन है, टाइम से आ जाना…”

बीवी मुझे घूर के देख रही थी…

साले के भजन (भोजन) के चक्कर में बीवी ने शाम का भी भोजन नही दिया…😷😂😂😂😂😂