सूरत देखकर दया आ गई!

एक पर्स चोर (दूसरे से):
चलती बारात में मैंने तुम्हें दूल्हे की जेब पर हाथ साफ करने को कहा था,
तुमने किया क्यों नहीं?
दूसरा चोर: मुझे उसकी सूरत देखकर दया आ गई।
बेचारा… दो-दो मुसीबतों को एक साथ कैसे संभालता।