दारू चढ़ने के बाद यूं बकता है आदमी!!

दारू चढ़ने के बाद यूं बकता है आदमी!!
1) तू मेरा भाई है भाई…
(अक्सर ये भाई… टुन्न होने के बाद, “बाई” सुनाई देता है)
2) यू नो आय एम नॉट ड्रन्क!!!
(पीने के बाद अंग्रेजी भी सूझने लगती है कभी-कभी)
3) हट बे गाड़ी मैं चलाऊंगा…
4) तू बुरा मत मानना भाई…
(साथ में पीने के बाद सब आपस में भाई-भाई होते हैं)
5) मैं दिल से तेरी इज्जत करता हूं…
6) अबे बोल डाल आज उसको दिल की बात, आर या पार…
(चने के झाड़ पर चढ़ाकर जूते खिलवाने का प्रोग्राम)
7) आज साली चढ़ ही नहीं रही, पता नहीं क्या बात है?
(चौथे पैग के बाद के बोल…)
8) तू क्या समझ रहा है, मुझे चढ़ गई है?
9) ये मत समझना कि पी के बोल रहा हूं…
10) अबे यार कहीं कम तो नहीं पड़ेगी आज इतनी?
(खामखा की फ़ूंक दिखाने के लिए…)
11) चल यार निकलने से पहले एक-एक छोटा सा और हो जाए…
12) अपने बाप को मत सिखाओ बेटा…
13) यार मगर तूने मेरा दिल तोड़ दिया… (पांचवे पैग के बाद का बोल…)
14) कुछ भी है पर साला भाई है अपना, जा माफ़ किया बे…
15) तू बोल ना भाई क्या चाहिये, जान हाजिर है तेरे लिये तो…
(ये भी पांचवे पैग के बाद वाला ही है…)
16) अबे मेरे को आज तक नहीं चढ़ी, शर्त लगा ही ले साले आज तो तू…
17) चल आज तेरी बात करा ही देता हूं उससे, मोबाइल नम्बर दे उसका…
क्या अपने-आपको माधुरी दीक्षित समझती है साली…
18) अबे साले तेरी भाभी है वो, भाभी की नज़र से देखना उसको आज के बाद…
19) यार तू समझा कर, वो तेरे लायक नहीं है…
(यानी कि मेरे लायक ही है…)
20) तुझे क्या लगता है मुझे चढ़ गई है, अबे एक फ़ुल और खतम कर सकता हूं…
21) यार आज उसकी बहुत याद आ रही है…
और सबसे खास और सम्भवतः हर बार बोला जाने वाला वाक्य…
22) बस…बहुत हुआ, आज से साली दारू बन्द…
(तगड़ी बहस और लगभग झगड़े की पोजीशन बन जाने पर)