विकीपीडिया के नाम से जानते हैं!!

रजनीकांत जिन दिनों तीसरी कक्षा में पढ़ते थे, उनकी रफ नोट्स वाली कॉपी किसी ने चुरा ली थी. आज उसी कॉपी को हम विकीपीडिया के नाम से जानते हैं!

डिड यू मीन रजनीकांत?

यदि आप गूगल पर रजनीकांत को गलत स्पेलिंग से सर्च करेंगे, तो उस पर यह नहीं आएगा कि ‘डिड यू मीन रजनीकांत?’ सीधा सा बस यही जवाब आएगा, ‘भागो, आपके पास अब भी मौका है’।