सैल्फी ले रही है!!

पागल लड़की वो छत पर खड़ी थी, बाल खुले और बिखरे, • कभी मुँह फुलाती कभी मुँह पिचकती कभी मुँह इधर कभी उधर, बार-बार सामने निहारती, कभी हँस देती।।।।।।। • दीन दुनियाँ से बेखबर, मुझे बहुत दया आ रही थी, इतनी कम उम्र में पागल, पूरी जिंदगी पड़ी है, क्या होगा? कैसे होगा? • मुझे…